कन्फ्यूशियस की गिनती दुनिया के महान विचारकों में की जाती है। उन्होंने अपनी शिक्षाएं उस ज़माने में दीं, जब चीन में झोऊ राजवंश के कमज़ोर होने के बाद अराजकता की हालत में था। विशाल चीनी साम्राज्य में कई छोटी-छोटी रियासतें बन गई थीं, जो आपस में लड़ती रहती थीं। चीनी जनता की जिंदगी बहुत मुश्किल हो गई थी। ऐसे ही मुश्किल हालात में चीनी जनता औरशासकों को नैतिकता का पाठ पढ़ाने के लिए कन्फ्यूशियस ने इन महान सिद्धांतों की रचना की।

हज़ारों साल बीत जाने के बाद भी महात्मा कन्फ्यूशियस की शिक्षाएं उतनी ही कारगर हैं, जितनी कि तब, जब इनकी रचना की गई थी। उनकी शिक्षाओं ने उस मुश्किल वक्त में तो चीनी जनता को एकजुट किया ही, बाद में भी जब-जब चीन के सामने कोई बड़ा संकट आया, कन्फ्यूशियस की शिक्षाओं ने चीनी नेताओं और जनता को सही राह दिखाई।

दिलचस्प बात यह है कि कन्फ्यूशियस ने कभी ईश्वर के बारे में कोई उपदेश नहीं दिए, फिर भी बाद में लोग उन्हें धार्मिक नेता मानने लगे। दरअसल कन्फ्यूशियस एक धार्मिक नेता नहीं, बल्कि समाज सुधारक थे। उनके दार्शनिक, सामाजिक तथा राजनीतिक विचारों पर आधारित मत को कनफ़ूशीवाद या कुंगफुत्सीवाद कहा जाता है। आइए अब हम आपको बताते हैं कन्फ्यूशियस के वो चमत्कारिक बातें, जिनसे सीख लेने और अमल में लाने पर आपकी जिंदगी बदल जाएगी:

1. जीतने की इच्छाशक्ति, सफलता की लगन, किसी काम को अपनी पूरी क्षमता से करने की ज़िद…ये वो चाबियां हैं, जो आपके लिए दुनिया में सबसे ऊंचा मुकाम हासिल करने के दरवाज़े खोल देंगी।

2. जिस बात को हम सिर्फ सुनते हैं, उसे जल्द भूल जाते हैं, जो देखते हैं, उसे हम याद रखते हैं, लेकिन जिसे हम खुद करते हैं, उसे हमेशा के लिए समझ जाते हैं।

3. एक ग़लती करने के बाद, जो आदमी उसे सुधारता नहीं है, वह असल में दूसरी ग़लती कर रहा होता है।

4. सफलता इस बात पर निर्भर करती है कि हम उसके लिए कितनी तैयारी करते हैं। अगर किसी काम से पहले हम उसकी तैयारी नहीं करते हैं, तो उस काम में हमारा फेल होना निश्चित है।

5. कभी न गिरने में कोई महानता नहीं होती, बल्कि गिरने पर हर बार उठ जाने में महानता होती है।

6. दूसरों से नफरत करना बहुत आसान है, लेकिन उनसे प्रेम करना बेहद मुश्किल। अच्छी चीज़ों को पाना हमेशा मुश्किल होता है, जबकि बुरी चीज़ें बहुत आसानी से मिल जाती हैं।

7. हम तीन तरीकों से ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं। पहला तरीका है, चिंतन करके औऱ यही ज्ञान पाने का सबसे सही तरीका भी है। दूसरा तरीका है, दूसरों का अनुकरण करके, जो कि सबसे आसान तरीका है। तीसरा तरीका है अपने अनुभव से और यह तरीका सबसे ज़्यादा कष्टकारी भी होता है।

8. अगर आप की गति धीमी है, तो भी आप अपने लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं, बस ज़रूरी बात यह है कि आप रुके नहीं।

9. सफल और श्रेष्ठ आदमी वह होता है, जो बोलता कम और काम ज़्यादा करता है।

10. अपने रोज़गार के लिए उस काम को चुनो, जिसे करना आपको बेहद पसंद है। उसके बाद सारी जिंदगी मजबूरी में आपको कोई काम नहीं करना पड़ेगा।

​11, बुराई को देखना और सुनना ही बुराई की शुरुआत होती है।

12. जिस काम को आप खुद ही पसंद नहीं करते, उसे दूसरों पर भी कभी मत थोपिए।