आत्मविश्वास और सौभाग्य के लिए ये फंडे
================
घर में बंद पड़ी घड़ियों को न रखें

आत्मविश्वास और सौभाग्य, ये दो ऐसे चीजे हैं, जो हर इंसान की पर्सनैलिटी पर नज़र आता है। आप जानते हैं कि कई ऐसे नियम हैं, जिन्हें अपनाकर अपने आत्मविश्वास और सौभाग्य को बढ़ाया भी जा सकता है?

खराब घड़ियों को ठीक कराएं या हटाएं
=========================================
समय देखने के लिए घड़ी ही एकमात्र साधन है। अपने घर या दफ्तर में बंद पड़ी घड़ियों को तुरंत हटा देना चाहिए। जितनी जल्दी हो सके इनसे छुटकारा पा लें, क्योंकि ये बहुत नुकसानदेह हैं। इन टूटी-फूटी या बंद घड़ियों से नकारात्मक ऊर्जा पैदा होती है, जो हानिकारक होती है। घड़ियों को हमेशा अच्छी हालत में रखें। बंद पड़ी घड़ी को मरम्मत करवाकर चालू हालत में रखें। इससे भी आप अपने व्यापार में परिवर्तन महसूस करेंगे।

उत्तर-दिशा में धातु का कछुआ रखिए
========================================
कछुआ आयु को बढ़ाने वाला, जीवन में प्रगति के सुअवसर में वृद्धि करने वाला होता है। पानी से भरे हुए एक छोटे से कटोरे में धातु की बनी कछुए की मूर्ति डालिए और उसे अपने घर के उत्तरी क्षेत्र में रखिए। इससे आपकी आयु बढ़ेगी। यदि घर के उत्तरी क्षेत्र में आपका शयनकक्ष हो, तो आप केवल कछुए का प्रतिरूप ही रखें। उसके साथ कटोर में पानी न रखें, क्योंकि शयनकक्ष में पानी रखना उपयुक्त नहीं है।

घोड़े की नाल से भाग्य जगाइए
=========================================
भारत में घोड़े की नाल को शुभ और सौभाग्यवर्धक मानते हैं, लोग अपनी सुरक्षा और सौभाग्य के लिए इसे अपने घर के मुख्य द्वार के ऊपर लगाते हैं। घोड़े की नाल, क्योंकि धातु तत्व है इसलिए पूर्व और दक्षिण-पूर्व दिशा की ओर वाले दरवाजे पर इसका प्रयोग न करें।

सफलता के लिए फीनिक्स पक्षी का चित्र लगाएं
=========================================
फीनिक्स चीन की पौराणिक कथाओं में वर्णित असाधारण पक्षी है। फेंगशुई के अनुसार, यह इच्छा पूरी होने वाले भाग्य का प्रतीक है। अपने भाग्य को क्रियाशील करने के लिए आप फीनिक्स के प्रतीक के रूप में उसका चित्र या पेंटिंग दक्षिण कोने में लगाइए। दक्षिण कोने को गतिशील करने के लिए फीनिक्स बहुत ही प्रभावशाली है। दक्षिण दिशा में फीनिक्स का चित्र होना दूरदर्शिता का भी प्रतीक है, जो किसी भी बुद्धिमान व्यवसायी के लिए आवश्यक है।

खाली दीवार की ओर मुंह करके न बैठें
=======================================
खाली दीवार की ओर मुंह करके बैठने से व्यक्ति धीरे-धीरे अदूरदर्शी हो जाता है। वह व्यक्ति मानसिक तौर पर अकेला महसूस करेगा।

खिड़की की ओर पीठ करके कभी न बैठें
==========================================
खुली खिड़की रखना शुभ संकेत है। लेकिन, आप खिड़की के एकदम सामने पीठ करके न बैठें, क्योंकि इससे ऊर्जा बह जाती है और आत्मविश्वास में कमी आती है एवं आप तनावग्रस्त रहते हैं।

अपने बैठने के स्थान के पीछे पर्वत का चित्र लगाएं
=======================================
इससे आपके पीछे के भाग के सहारे को बल मिलेगा। जो कमजोर इच्छा शक्ति एवं आत्मविश्वास की कमी वाले व्यक्ति हैं, उनको अपने लिए इसका उपयोग करना चाहिए।