सभी समस्याओ की वजह दो शब्द “जल्दी” और “देर”

हम सपने बहुत जल्दी देखते हे
और कार्य बहुत देरी से करते हैं।

हम भरोसा बहुत जल्दी करते है..
और माफ करने मे बहुत देर करते हैं।

हम गुस्सा बहुत जल्दी करते है
और माफी बहुत देर से माँगते है।

हम हार बहुत जल्दी मानते है
और शुरुआत करने मे बहुत देर करते है।

हम रोने मे बहुत जल्दी करते है..
और मुस्कुराने मे बहुत देर करते है।

हम नामदान लेने की बड़ी जल्दी करते हैं
और
सिमरन भजन करने में बहुत देर

बदलें “जल्दी” वरना
बहुत “देर” हो जाएगी।