आजकल 100 में से 70 व्यक्तियों के हांथों की उंगलियों में रत्नजडित अंगूठियों को देखा जा सकता है। रत्नों में चुम्बकीय शक्ति होती है, जिससे वह ग्रहों की रश्मियों एवं उर्जा को अवशोषित कर लेती है, रत्न अगर सही समय में और ग्रहों की सही स्थिति को देखकर धारण किये जाएं तो इनका सकारात्मक प्रभाव प्राप्त होता है अन्यथा रत्न विपरीत प्रभाव भी देते हैं। सही रत्नों के धारण करने मात्र से आने वाली मनुष्य की परेशानिया कम या समाप्त हो जाती है।

व्यक्ति की कुण्डली और हांथों में ग्रहों की स्थितियों के अनुसार परेशानियों का अनुमान लगाकर, फिर वह परेशानी किस ग्रह से संबंधित है उस गृह का व्यक्ति को रत्न धारण कराया जाता है।

12647259_485439648325200_5005760832041451149_n