वर्बल कम्युनिकेशन आपके इंटरव्यू में सफलता के लिए अत्यंत आवश्यक तो है ही साथ ही साथ नॉन -वर्बल कम्युनिकेशन भी एक अहम भूमिका निभाती है।

इंटरव्यू में सफल होने के लिए आप बॉडी लैंग्वेज का बेहतर इस्तेमाल कैसे करें, इसके लिए मैं आपको  ५ अत्यंत उपयोगी सलाह देना चाहूंगा जिसे ध्यान में रखकर आप सफलता निश्चित कर सकते हैं :

बॉडी लैंगुएज टिप # 1 : मुर्झाया हुआ चेहरा न रखें:

आपके मुह की बनावट आपके पुरे आचरण को दर्शाती है।
ऊपर की ओर मुह बनाना ये दर्शाता है की आप बहुत मुस्कराते हैं।

और नीचे की और मुह बनाना ये दर्शाता है की आप क्रोध या फिर तेवर बहुत ज्यादा दिखाते हैं

और शांत तथा सीधा मुह रखना ये दर्शाता की आप मुस्कराते भी हैं और आपमें तेवर भी है।

जहाँ तक हो सके अपने मुह को ऊपर की ओर ही रखें या फिर कम से कम सीधा तो जरूर रखें।  

बॉडी लैंगुएज टिप # 2  : अपने कदमों पर ध्यान दें :

इंटरव्यू रूम में प्रवेश करने का आपका तरीका भी आपके आचरण को उजागर करता है।

सीधा और विश्वास से भरे लंबे कदम बढाकर चलना ये दर्शाता है की आप इंटरव्यू के लिए उत्साहित और विश्वास से भरे हुए हैं।

जबकि अगर आप धीमे और हिचकिचाहट भरे कदमों से चल रहें तो ये बयां करता है की आप ज्यादा ही नर्वस हैं और इस काम को ठीक से करने के प्रति कॉंफिडेंट नहीं हैं।

इसलिए जहाँ तक हो सीधे और से विश्वास से भरे नजर आएँ।  

बॉडी लैंगुएज टिप # 3   : पुराने और सही तरीके से हाथ मिलाएं :

हाथ मिलाने के तरीकों को HR टीम कई सालों से एक सिग्नल की तरह इस्तेमाल करती आई है।

इन प्रसिद्द सिग्नलों को पहचाने और अपनाने का प्रयास करें :

एक बुलंद और नजर से नजर मिलाकर हथेली से हथेली वाला हैंड शेक ईमानदारी और आत्मविश्वास को दर्शाता है।

निर्जीव, शिथिल और ढीला-ढाला और बिना नजरें मिलाये हैंड शेक दर्शाता है की व्यक्ति में उत्साह तथा आत्म विश्वास की कमी है तथा वह निष्क्रिय प्रकृति का भी हो सकता है।

एक आक्रामक हैंड शेक और इस दौरान हाथों को कस के दबाना व्यक्ति में अत्यधिक आक्रमका को दर्शाता है और उसके अंदर संवेदनशीलता की कमी को दर्शाता है।

हाथ पर हाथ रखकर हाथ मिलाना असुरक्षा की भावना को दर्शाता है। इस तरह का हैंड शेक बहुत आम है लेकिन ये प्रोफेशनल मीटिंग्स के लिए सही नहीं है अतः ऐसा करने से बचें।

बॉडी लैंगुएज टिप # 4  : इंटरव्यू के दौरान अपने पोस्चर (हाव-भाव) पर ध्यान रखें :

आप इंटरव्यू के दौरान किस तरह से बैठते हैं इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए।

झुक कर बैठना रूचि का न होना दर्शाता है तथा कुर्सी या बैठने के स्थान पर शरीर को टिका कर बैठना बेचैनी या घबराहट को दर्शाता है।

हमेशा शरीर और सर को सीधा रखकर बैठना दर्शाता है की कैंडिडेट विश्वास से भरा है और तनाव मुक्त है और इंटरव्यू के लिए पूरी तरह से तैयार है।

बॉडी लैंगुएज टिप # 5 : इंटरव्यू कक्ष से बाहर किस तरह निकलें इसका भी ध्यान दें :

इंटरव्यू अच्छे से निपट जाने तक ही खत्म नहीं होता, आप इंटरव्यू कक्ष से बाहर किस तरीके से निकलते हैं यह बात भी गौर की जाती है।

इंटरव्यू कक्ष से निकलते समय भी आप ध्यान रखें कि आप सीधे और विश्वास से भरे कदमों से चल रहे हैं।

अब जाइए और वैसा ही प्रभाव डालिये जैसा आप दिखाना चाहते हैं।