सकारात्मक प्रभाव
1. प्रति दिन अगर रोटी सेंकने से पहले तवे पर दूध
के छींटे मारें, तो घर में
बीमारी का प्रकोप कम होगा।
2.प्रत्येक गुरुवार को तुलसी के पौधें को थोडा -सा दूध
चढाने से घर में लक्ष्मी का स्थायी वास
होता है।
3. प्रति दिन संवेरे पानी में थोडा-सा नमक मिला कर घर
में पोंछा करें, मानसिक शांति मिलेगी।
4. प्रतिदिन सवेरे थोडा-सा दूध और पानी मिला कर
मुख्य द्वार के दोनों ओर डाले, सुख-शांति मिलेगी।
5. मुख्य द्वार के परदे के नीचे कुछ घुंघरु बांध दे,
इसके संगीत से घर में प्रसन्नता का वातावरण बनेगा।
6. प्रति दिन शाम को पीपल के पेड़ को थोडा-सा दूध-
पानी मिलाकर चढाएं, दीपक जलाएं
तथा मनोकामना के साथ पांच परिक्रमा करें। शीघ्र
मनोकामना पूर्ण होगी।
7. प्रति दिन सवेरे पहली रोटी गाय को,
दूसरी रोटी कुत्ते को एवं
तीसरी रोटी छत पर
पक्षियों को डालें।
इससे पितृदोष से मुक्ति मिलती है तथा पितृदोष के
कारण प्राप्त कष्ट समाप्त होते हैं ।
8. किसी भी दिन शुभ-घड़ियों में पांच
किलो साबूत नमक एक थैली में लाकर अपने घर में
ऐसी जगह रखें जहां पानी ना लगे।
यदि अपने आप पानी लग जाए तो इसे काम में ना ले,
फेंक दे तथा नया नमक लाकर रख दें।
यह घर के नकारात्मक प्रभाव को कम करता है एवं सकारात्मक
प्रभाव को बढाता है ।।