मंत्र जप और इष्ट साधना में सफलता हेतु उचित माला का चयन अत्याधिक महत्वपूर्ण होता है | अपने मनवांछित कार्य की सिद्धि हेतु उचित माला के चयन के द्वारा साधक अपनी साधना में सफलता निश्चित ही प्राप्त कर सकते है |
नव ग्रह शांति हेतु बिभिन्न मालाये :-
===================
* सूर्य के लिए माणिक्य, रुद्राक्ष और बिल्ब की लकड़ी से निर्मित माला का उपयोग बहुत लाभप्रद है |
* चन्द्र के लिए मोती, शंख, सीप की माला का प्रयोग किया जाता है |
* मंगल के लिए मूंगे या लाल चन्दन की माला का प्रयोग उचित है |
* बुध के लिए पन्ना या कुशमूल की माला का प्रयोग लाभप्रद होता है |
* गुरु के लिए हल्दी की माला का प्रयोग किया जाता है |
* शुक्र के लिए स्फटिक की माला का प्रयोग करना चाहिए \
* शनि के लिए काले हकीक की माला का प्रयोग लाभ दायक होता है |
* राहु के लिए गोमेद की माला का प्रयोग उचित है |
* केतु के लिए लहसुनिया या लाजवर्त की माला का प्रयोग लाभदायक माना गया है |