मार्टिन लूथर ने कहा था…
“अगर तुम उड़ नहीं सकते तो, दौड़ो !
अगर तुम दौड़ नहीं सकते तो, चलो !
अगर तुम चल नहीं सकते तो, रेंगो !
पर आगे बढ़ते रहो !”
अपनी सोच ओर दिशा बदलो
सफलता आपका स्वागत करेंगी…….
रास्ते पर कंकड़ ही कंकड़ हो
तो भी एक अच्छा जूता पहनकर
उस पर चला जा सकता है..
लेकिन यदि एक अच्छे जूते
के अंदर एक भी कंकड़ हो तो
एक अच्छी सड़क पर भी
कुछ कदम भी चलना मुश्किल है ।।
यानी –
“बाहर की चुनोतियों से नहीं
हम अपनी अंदर की कमजोरियों
से हारते हैं ”

Thanks