download images

एक नई नवेली दुल्हन जब ससुराल में आई तो उसकी सास बोली : बींदणी कल माता के मन्दिर में चलना है। बहू ने पूछा : सासु माँ एक तो ‘ माँ ‘ जिसने मुझे जन्म दिया और एक ‘ आप ‘ हो और कोनसी माँ है ? सास बडी खुश हुई कि मेरी बहू तो बहुत सीधी है । सास ने कहा – बेटा पास के मन्दिर में दुर्गा माता है सब औरतें जायेंगी हम भी चलेंगे । सुबह होने पर दोनों एक साथ मन्दिर जाती है । आगे सास पीछे बहू । जैसे ही मन्दिर आया तो बहू ने मन्दिर में गाय की मूर्ति को देखकर कहा : माँ जी देखो ये गाय का बछड़ा दूध पी रहा है , मैं बाल्टी लाती हूँ और दूध निकालते है ।

सास ने अपने सिर पर हाथ पीटा कि बहू तो ” पागल ” है और बोली बेटा ये स्टेच्यू है और ये दूध नही दे सकती। चलो आगे। मन्दिर में जैसे ही प्रवेश किया तो एक शेर की मूर्ति दिखाई दी । फिर बहू ने कहा – माँ आगे मत जाओ ये शेर खा जायेगा सास को चिंता हुई की मेरे बेटे का तो भाग्य फूट गया । और बोली – बेटा पत्थर का शेर कैसे खायेगा ? चलो अंदर चलो मन्दिर में, और सास बोली – बेटा ये माता है और इससे मांग लो , यह माता तुम्हारी मांग पूरी करेंगी । बहू ने कहा – माँ ये तो पत्थर की है ये क्या दे सकती है ? , जब पत्थर की गाय दूध नही दे सकती ? पत्थर का बछड़ा दूध पी नही सकता ? पत्थर का शेर खा नही सकता ? तो ये पत्थर की मूर्ति क्या दे सकती है ? अगर कोई दे सकती है तो आप ……… है ” आप मुझे आशीर्वाद दीजिये ” ।

तभी सास की आँखे खुली ! वो बहू पढ़ी लिखी थी, तार्किक थी, जागरूक थी , तर्क और विवेक के सहारे बहु ने सास को जाग्रत कर दिया ! अगर ईश्वर की प्राप्ति करनी है तो पहले असहायों , जरुरतमंदों , गरीबो की सेवा करो परिवार , समाज में लोगो की मदद करे । ” मानव सेवा ही सच्ची सेवा है ” । ” मंदिर , मस्जिद , गुरुद्वारे शांति के केंद्र हे।

Thanks