भद्रासन करे याददाश्त को तेजतर्रार
यदि आप लंबी उम्र तक याददाश्त को अच्छा बनाए रखना चाहते हैं तो इसके लिए स्पेशल केयर जरूरी है। रोजाना कुछ समय अपनी भागदौड़ भरी दिनचर्या में से समय निकालकर भद्रासन करें। आपका दिमाग उम्र भर तेजतर्रार रहेगा।
भद्रासन की विधि
download (8)
भद्रासन के लिए नीचे दरी या चटाई बिछाकर उस पर घुटनों के बल खड़े हो जाएं। अब अपने दाएं पैर को घुटने से मोड़कर पीछे की ओर ले जाकर नितंब (हिप्स) के नीचे रखें। फिर बाएं पैर को भी घुटने से मोड़कर पीछे की ओर ले जाकर नितंब (हिप्प) के नीचे रखें। घुटनों को आपस में मिलाकर जमीन से सटाकर रखें। पंजे को नीचे व एड़ियों को ऊपर नितंब से सटाकर रखें। अब अपने पूरे शरीर का भार पंजे व एडिय़ों पर डालकर बैठ जाएं। इसके बाद अपने दाएं हाथ से बाएं पैर के अंगूठे को पकड़ें और बाएं हाथ से दाएं पैर का अंगूठा पकड़ लें। अब जालंध्रर बंध लगाएं यानी सांस को अंदर खींच कर सिर को आगे झुकाकर कंठ मूल से सटाकर रखें और कंधे को ऊपर खींचते हुए आगे की ओर करें। अब नाक के अगले भाग को देखते हुए भद्रासन का अभ्यास करें। इस स्थिति में जब तक रहना सम्भव हो रहें और फिर जालंधर बंध हटाकर सिर को ऊपर करके सांस बाहर छोड़ें।
 images (10)
लाभ
1. इस आसन से शरीर फिट रहता है।
2. याददाश्त बढ़ती है।
3. कल्पनाशक्ति का विकास होता है। चंचलता कम होती है।
4. डायजेस्टिव सिस्टम ठीक होता है।
5. सिरदर्द, अनिद्रा, दमा, बवासीर, उल्टी, हिचकी, अतिसार, पेट के रोग और आंखों की बीमारी आदि रोगों में इस आसन से लाभ होता है।
Thanks
Advertisements