http://theyouthjob.com/?ref=357626

श्वेतार्क गणपति- दरिद्रता करे दूर – वास्तु उपाय

आंकड़े को आक का पौधा भी कहा जाता है।आंकडे के पौधे की एक दुर्लभ प्रजाति है सफेद आंकड़ा। इसी सफेद आंकड़े की जड़ में श्वेतार्क गणपति की प्रतिकृति निर्मित होती है। इस पौधे की पहचान यह है कि इसके फूल सफेद होते हैं। किसी भी पौधे की जड़ में गणपति की प्रतिकृति बनने में कई वर्षों का समय लगता है। जानते है इस पोधे के फायदे

7391_shwetark_ganesh

दिखाई देती है गणेशजी की आकृति

download (2)

सफेद आंकड़े की जड़ प्राप्त होने के बाद इसकी बाहरी परतों को कुछ दिनों तक पानी में भिगोया जाता है। जब सफेद आंकड़े की इस जड़ पानी में से निकाला जाता है तो भगवान गणेश के शरीर की बनावट इसमें दिखाई देने लगती है।

ऐसे दिखते हैं श्वेतार्क गणेश

images (12)

सफेद आंकड़े के हर पौधे की जड़ में गणेश की सूंड जैसा आकार रहता है। इसकी जड़ के तने में गणेशजी के शरीर, आस-पास की शाखाओं में भुजाएं और सूंड जैसी आकृति दिखाई देती है। कुछ पौधों की जड़ में बैठे हुए गणेश की मूर्ति जैसी भी दिखाई देती है।

आंकड़े में गणेशजी का वास

शास्त्रों के अनुसार बिल्व के वृक्ष में शिव का वास होता है और आंकड़े के पौधे में श्रीगणेश का वास होता है। आंकड़े की जड़ में दिखाई देने वाली श्रीगणेश की आकृति इस बात का प्रमाण है।

श्वेतार्क गणेशजी की पूजा से दूर होती है दरिद्रता

कार्यों में सफलता के लिए आंकड़े के गणेशजी की पूजा का विशेष महत्व बताया गया है। यह गणेशजी का प्राकृतिक व चमत्कारी स्वरूप है। मान्यता है कि जिस परिवार में आंकड़े के गणेश की रोज पूजा होती है, वहां दरिद्रता, रोग व परेशानियां का वास नहीं होता है।

वास्तु शास्त्र में श्वेतार्क का उपयोग
वास्तु शास्त्र में ये पौधा घर के बाहर लगाने की सलाह दी जाती है. इससे ये बाहर से आने वाली सभी नकारात्मक ऊर्जा को बाहर ही रोक लेता है घर में नही जाने देता। इस पोधे को मैन गेट के पास लगाते  है
व्यापार स्थल पर किसी भी प्रकार की समस्या हो तो वहां श्वेतार्क गणपति तथा की स्थापना करें।
Thanks